इतिहास के साथ छेडछाड ठीक नहीं है, पद्मावती’ में ऐतिहासिक तथ्य गलत ढंग से पेश : पूर्व राजघराना

0
433

जयपुर: फिल्म ‘पद्मावती’ के बारे में जयपुर के पूर्व राजघराने की पद्मिनी देवी और दीया कुमारी ने ऐतिहासिक तथ्यों को गलत ढंग से पेश किये जाने को लेकर अपना विरोध दर्ज करवाया और कहा है कि यदि तथ्यों को गलत ढंग से दिखाया गया तो वे खुलकर विरोध करेंगे. पद्मिनी देवी और भाजपा विधायक दीया कुमारी ने आज सिटी पैलेस में कहा कि इतिहास के साथ छेडछाड ठीक नहीं है.
पद्मावती ने अपने सम्मान के लिए सौलह हजार रानियों के साथ मिलकर जौहर किया था, उसे फिल्म में एक अलग कहानी बनाकर प्रस्तुत करना उचित नहीं है. रानी पद्मावती ने अपनी इज्जत के लिए जौहर किया था, न कि अन्य किसी बात के लिए जैसा फिल्म में दिखाये जाने की तैयारी है.

उन्होंने कहा कि यह महिलाओं के सम्मान और इतिहास के सम्मान की बात है. यदि एक बार फिल्म में यह सब कुछ दिखा दिया गया तो वह इतिहास बन जायेगा और वास्तविक इतिहास से लोग दूर हो जायेंगे.

भाजपा विधायक दीया कुमारी ने कहा, ‘मैं अभी निजी तौर पर फिल्म पद्मावती में इतिहास के तथ्यों को अलग ढंग से पेश किये जाने का विरोध कर रही हूं.  उन्होंने फिल्म को प्रदर्शन का प्रमाण पत्र जारी करने वाली सेंसर बोर्ड को इतिहास से जुडे तथ्यों की जांच के लिए पृथक कमेटी गठित करने की मांग की ताकि फिल्मों में इतिहास को गलत ढंग से पेश नहीं किया जा सके.’
चौमू पूर्व राजघराने की पुत्रवधु रक्मणि कुमारी ने कहा कि,’ यह मामला केवल रानी पद्मावती का नहीं है बल्कि समस्त महिलाओं का है. आखिर कोई व्यक्ति महिला के सम्मान के साथ खिलावाड कैसे कर सकता है. उन्होंने फिल्म निर्माता से आग्रह किया कि वे फिल्म प्रदर्शन से पहले यदि इतिहास के तथ्यों को गलत ढंग से पेश किया है तो उसे सुधारें, वरना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.
इस बीच, राजस्थान करणी सेना के पदाधिकारी महिपाल सिंह मकराना ने फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली को चेतावनी दी है कि फिल्म में इतिहास के तथ्यों को गलत ढंग से पेश नहीं करें वरना फिल्म को राजस्थान में रिलीज नहीं होने देंगे और विरोध करेंगे. उन्होंने फिल्म निर्माता से कहा है कि फिल्म पद्मावती के किरदार अलाउद्दीन खिलजी (रणवीर सिंह) और पद्मावती (दीपिका पादुकोण) को साथ साथ नहीं दिखाये वरना विरोध के लिए तैयार रहे.

LEAVE A REPLY