बॉलीवुड की चाँदनी पहुँची चाँद के पास

0
1096

आजतक खबरें,मुंबई:फिल्म ‘हिम्मतवाला’,’सदमा’,’नगीना’,’कर्मा’,’मिस्टर इंडिया’,’चांदनी’,’निगाहें’ और’लाडला’ जैसी सुपरहिट फिल्में दे चुकी बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री श्रीदेवी ने 54 की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया।

जीवन का सबसे बड़ा सच यही है जो आया है उसे जाना ही है।मगर इस तरह किसी का यूं चले जाना बड़ा अखरता है। खास तौर से किसी अपने का और श्रीदेवी भी तो अपनी ही थीं। हर घर में किसी ना किसी वजूद में उनका अस्तित्‍व रहा था।फिर चाहे वो किसी को देने वाले तानों में हो या तारीफों में। बॉलीवुड की ‘चांदनी’ हर चेहरे पर चमक बिखेर देतीं और अपनी अदायगी से सिनेमाई पर्दे पर हर ‘लम्‍हे’ को यादगार बना देतीं। मगर किसी को क्‍या पता था कि वह इस तरह हमें ‘सदमा’ देकर इस दुनिया से चली जाएंगी।

हालांकि इसमें कोई शक नहीं है कि श्रीदेवी की मौजूदगी हमेशा हमारे बीच बनी रहेगी, चाहे वो किसी भी रूप में ही क्‍याें ना हो। हम सभी के लिए वह एक सितारा थीं और हमेशा रहेगीं फिर चाहे वह कहीं भी रहें।

ताजा खबरों के मुताबिक उनका निधन कार्डिएक अटैक की वजह से हुआ।फिल्म अभिनेता और सोनम कपूर के भाई मोहित मारवाह की शादी में हिस्सा लेने कुछ दिन पहले ही पूरा कपूर खानदान दुबई गया था। श्रीदेवी के निधन की खबर से बॉलीवुड से लेकर फैंस तक को झटका लगा है।जिस वक्त यह घटना घटी उनके पति बोनी कपूर और उनकी छोटी बेटी खुशी उनके साथ थीं।


श्रीदेवी के देहांत की खबर पाकर उनके शुभचिंतक मुंबई स्थित उनके घर पहुंच रहे हैं।श्रीदेवी की बड़ी बेटी फिलहाल मुंबई में ही हैं और वह शूटिंग शेड्यूल के कारण परिवार के साथ दुबई नहीं जा सकी थीं।बॉलीवुड की कई हस्तियों ने इस मशहूर अदाकारा के निधन पर ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है।

श्रीदेवी ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत महज चार वर्ष की उम्र में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट की थी।उनकी पहली फिल्म बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट ‘थुनैवान’ थी। पिछले साल उनकी फिल्म मॉम आई थी। आपको बता दें कि,श्रीदेवी ने फिल्मों में अपने अभिनय से हमेशा प्रभावित किया।श्रीदेवी ने बॉलीवुड में कदम रखने से पहले तमिल,तेलुगु,मलयालम और कन्नड फिल्मों में काम किया था।उन्होंने अपने करियर की शुरूआत बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट की थी।धीरे-धीरे फिल्में करते हुए एक मुकाम पर वो फीमेल सुपरस्टार बन गई थीं।इसके बाद 2012 में उन्होंने फिल्म इंग्लिश विंग्लिश से फिल्मों में सफलता पूर्वक कम बैककिया था।सरकार ने उन्हें 2013 में पद्मश्री से भी नवाजा था।

LEAVE A REPLY