ब्रेकिंग: क्या “फरीदाबाद को फकीराबाद बनाने” के अधूरे अजेंडे को पूरा करने की हो रही तैयारी

0
25316

आजतक खबरें,बल्लबगढ़(अमित चौधरी): शहर की औद्योगिक जान कहे जाने वाली बल्लबगढ़ स्थित जेसीबी कंपनी में से अपने लगभग 38 अन्य कर्मचारिओं के साथ नौकरी से आज अचानक निकाले गए पिछले लगभग 18 साल से नौकरी कर रहे इस कर्मचारी के एक सवाल ” क्या फरीदाबाद को फकीराबाद बनाने के अधूरे अजेंडे को पूरा करने की तैयारी है ये “ ने लगभग 20-22 साल पहले कहे एक मुख्यमंत्री के कथन की याद ताज़ा कर दी जिसमे कहा गया था कि “फरीदाबाद को फकीराबाद “ बना दूँगा।

उस समय हुए विंधानसभा चुनाव में फरीदाबाद से कम सीट मिलने के बाद समयकालीन मुख्यमंत्री ने कहा था कि ” फरीदाबाद को फकीराबाद ” बना दूँगा।और एक मुख्यमंत्री द्धारा की गयी इस भविष्यवाणी का परिणाम क्या हुआ बाद में फरीदाबाद के औद्योगिक जगत ने खूब देखा व् भुक्ता।

उपरोक्त मुख्यमंत्री के इस कथन के घाव आज भी फरीदाबाद को झिंझोर देते हैं,टीस का एहसास कराते हैं क्योकि वो आज भी दिलों में हरे हैं क्योकि उस समय सरकार बनने के बावजूद अगर एक मुख्यमंत्री का अहम सर्वोच्च नहीं होता तो आज फरीदाबाद का वैभव कुछ अलग ही होता।

ताजा घटना क्रम में, जेसीबी कंपनी में लगभग 18 वर्षों की ईमानदारी से नौकरी कर रहे कर्मचारी ने बताया कि देश के प्रधानमंत्री व् प्रदेश के ईमानदार मुख्यमंत्री द्धारा बार बार की गयी घोषणा कि इस महामारी के कारण हुए आर्थिक नुकसान के मद्देनजर किसी की नौकरी पर संकट नहीं आएगा।जिसके लिए बड़े उद्योगों को सरकारी फण्ड की घोषणा भी हो चुकी है।बावजूद इसके कर्मचारिओं को नौकरी से निकाले जाने का क्रम जारी है।

कर्मचारी ने आंख से निकले आसूं को छिपाते हुए बताया कि जेसीबी कंपनी कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन के बाद लगभग 2 महीने बाद खुली है।और खुलते ही कर्मचारिओं को नौकरी से निकाले जाने का क्रम जारी है।

कोरोना महामारी मे से निपटने में व्यस्त फरीदाबाद प्रशासन का लाभ उठाते हुए(या सभी नेताओं,प्रशासन,अधिकारिओं ने जानपूछ्कर-मजबूरी में आंख बंद कर ली है)कंपनी में रोजाना कर्मचारी निकाले जा रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार कंपनी द्धारा लाभ के लिए बनाये गए मानक में लाभ प्रतिशत आने वाले भविष्य में कम न हो इसकी सुनिश्चिता के लिए यह छटनी की जा रही है।दूसरा अब ज्यादातर जेसीबी के प्रमुख मॉडल बल्लबगढ़ स्थित इस यूनिट से बंद कर जयपुर में बनी नई यूनिट में बनाये जायेंगे इसलिए भी अभी से छटनी की जा रही है।और लगभग आधे से ज्यादा प्रोडक्शन का काम जयपुर शिफ्ट भी हो गया हैं बाकि बचा हुआ भी आने वाले कुछ ही महीनों में हो जायेगा।यानि हरियाणा सरकार को कई करोड़ के राजस्व का नुकसान तो मजदूर-कर्मचारी सड़क पर।

मतलब फरीदाबाद में नई मदर यूनिट आयी नहीं लेकिन जाने जरूर लगीं हैं।जेसीबी के इन प्रमुख मॉडल की प्रोडक्शन के यहाँ से चले चले जाने ये इन प्रसिद्ध मॉडलों के छोटे छोटे कलपुर्जे बना रहीं फरीदाबाद की कई सौ छोटी छोटी वर्कशॉप का क्या हाल होगा,जिनके ऊपर हजारों परिवार आश्रित है,यह सोच कर ही शरीर में सिहरन सी उठने लगती है क्योकि वह आने वाला काल कोरोना काल से भी बुरा होगा यानि ” फरीदाबाद को फकीराबाद ” बनाने की एक कदम ओर।

 क्या याद है वो मई 15, 2016  सेक्टर 17 के स्कूल स्थित सभागार में हुई प्रदेश की पहली डिजिटल रैली।जहाँ सभागार में शहर के चुनिंदा आमंत्रित लोग मौजूद थे। रैली में सीएम मनोहर लाल बाेले कि अगर फरीदाबाद में ज़मीन मिल जाए तो फरीदाबाद में मदर यूनिट निश्चित लगेगी।

डिजिटल रैली सीएम ने कहा की केएमपी के दोनों तरफ 4 किमी में उद्योग लगेंगे।इस डिजिटल रैली का सीधा प्रसारण फरीदाबाद विधानसभा में अलग-अलग जगह लगाई गई डिजिटल स्क्रीन पर हुआ।सीधे प्रसारण के जरिए हजारों लोगों ने डिजिटल रैली के मंच से सीएम मनोहर लाल समेत भाजपा के अन्य बड़े नेताओं की बात सुनी।

रैली के आयोजक फरीदाबाद के विधायक विपुल गोयल थे जो उस समय प्रदेश के उध्योग मंत्री थे।इन्होने ही कहा था फरीदाबाद  आईएमटी  में चीन की मोबाइल कंपनी मदर यूनिट लगायेगी।वो बात अलग है कि आईएमटी में अवैध कब्जों अवैध वसूली को छोड़ मोबाइल मदर यूनिट यूनिट तो दूर की बात है अब ये जेसीबी मदर यूनिट भी अपनी ही बनाई जेसीबी से अपना भार उठा यहाँ से पलायन को तैयार है।

अब देखने वाली बात ये है कि जिस जिले से केंद्रीय मंत्री,कैबिनेट मंत्री,सरकार में चेयरमैन नेता,संघ में अपनी ऊपर तक अपनी पैठ रखने वाले आते हों,वे सभी इस विषय पर कोई सकारात्मक कदम उठाते हुए पहल करेंगे या अपना राजनैतिक वजूद बचाने खातिर  20 साल पहले  फरीदाबाद को फकीराबाद ” बना दूँगा वाले अजेंडे को बढ़ाने में सहयोग करेंगे क्योकि अब तो हरियाणा सरकार भी फकीराबाद “वाली सोच के जन्मदाता के उत्तराधिकारी के सहयोग से ही चल रही है।

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY