चौ देवीलाल के खड़ाऊ ही हमें उनकी नीतियों को घर-घर तक पहुंचाने काम करेंगे: दुष्यंत

0
249

आजतक खबरें फरीदाबाद:चुनाव आयोग की तरफ से पार्टी को चौ देवीलाल के खड़ाऊ मिले हैं और ये खड़ाऊ ही उनके पद चिन्हों पर हमें चलाते हुए उनकी नीतियों को घर-घर तक पहुंचाने काम करेंगे उक्त शब्द जननायक जनता पार्टी को चुनाव चिन्ह मिलने के बाद पहली बार जजपा के वरिष्ठ नेता और सांसद दुष्यंत चौटाला ने घरौंडा की अनाज मंडी में जनसभा को संबोधित करते हुए कहे।

सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इस दौरान उन्होंने आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी के पास खुद के उम्मीदवार नहीं होने की बात कहते हुए प्रदेश में परिवर्तन लाने के लिए जननायक जनता पार्टी को एकमात्र विकल्प बताया।

सांसद दुष्यंत चौटाला ने ‘चप्पल’ चुनाव निशान को चौधरी देवीलाल के खड़ाऊ का रूप बताते हुए कहा कि जीवन के पहले से आखिरी कदम तक साथ चलने वाली चप्पलें जेजेपी का चुनाव चिन्ह है जो कि पुरुष,महिला,कर्मचारी,व्यापारी, किसान, ग्रामीण,मजदूर समेत सबको अपनी मंजिल तक पहुंचाती है।इसी तरह जननायक जनता पार्टी भी चौधरी देवीलाल की विचारधारा पर चलते हुए सबको साथ लेकर हरियाणा के नव निर्माण के लिए प्रदेश में स्वच्छ राजनीति स्थापित करेगी।

सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश में परिवर्तन के लिए अगर कोई ताकत है तो उसका नाम जननायक जनता पार्टी है।उन्होंने कहा कि आज भाजपा का क्या हश्र हो चुका है,इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है कि आज चुनाव लड़ने के लिए उनको खुद के उम्मीदवार तक नहीं मिल रहे है और बीजेपी के तीन सांसद भाजपा छोड़कर भागने को तैयार है।

उन्होंने कहा कि भाजपा करनाल सीट से कोई केंद्र का उम्मीदवार उतारने की तैयारी में है।कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए दुष्यंत ने कहा कि बीजेपी करनाल से कोई भी उम्मीदवार उतारे,इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।आज जननायक जनता पार्टी अपने दम पर एकजुट होकर जेजेपी का सांसद बनाने में सक्षम हैं। इसलिए जेजेपी का राज लाने के लिए कार्यकर्ता दिन-रात एक करके मेहनत करें।लोगों से सम्पर्क साध कर उन्हें पार्टी से जोड़ें।

उन्होंने कहा कि जींद उपचुनाव में जजपा को सिर्फ 40दिन का समय मिला थालेकिन कार्यकर्ताओं की मेहनत के दम पर युवा उम्मीदवार दिग्विजय चौटाला को करीब 38 हजार वोट मिले।जिसमें राहुल गांधी,भूपेन्द्र हुड्डा,अशोक तंवर,किरण चौधरी व कैप्टन अजय यादव सहित कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता रणदीप सुरजेवाला के साथ थे लेकिन उनकी जमानत भी बड़ी मुश्किल से बच पाई।

 

LEAVE A REPLY