गाँधी के चश्मे में दबे अवैध भ्रष्टाचार युक्त निर्माण दे रहे नवनियुक्त निगम कमिश्नर को चुनौती

0
805

आजतक खबरें,फरीदाबाद(अमित चौधरी):शहर में लगातार हो रहे अवैध निर्माण पर पाबंदी लगाना नवनिगमायुक्त कमिश्नर के मुख्य अजेंडे में शामिल है और इसके लिए निगम कमिश्नर ने अपने विभाग को भी सख्त आदेश दे दिए हैं।

लेकिन शायद इसके लिये अवैध निर्माण करने वालों ने भी कमर कस ली है।शहर भर में लोग बेखौफ होकर अवैध निर्माण करा रहे हैं।उदासीनता का आलम यह है कि भू माफियाओं व राजस्व अधिकारियों की मिली भगत से शहर में अवैध निर्माण व् अवैध कब्जे अपने चरम पर हैं।हालात ये हैं कि क्षेत्र के कई इलाकों में बिना नक्शे के भवनों का निर्माण कराया जा रहा है।शायद फरीदाबाद नगर निगम अधिकारिओं से साठगांठ होने के चलते शिकायत होने के बाद भी अवैध निर्माण करने-कराने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

ये हम नहीं कह रहे,शहरवासिओं का कहना है।शहर के चारों तरफ लगातार अवैध कालोनियों को बसाया जा रहा है जो स्मार्ट सिटी के नाम पर दाग की तरह दिखाई दे रही हैं।साथ ही मौजूदा समय में शहर में बेतरतीब तरीके से भवनों को बनाया जा रहा है।बिना अनुमति के पॉश इलाकों के साथ साथ इंडस्ट्रियल एरिया में भी जम कर अवैध निर्माण कराया जा रहा है।क्षेत्र में सरकारी करोड़ों रुपये की भूमि पर भूमाफिया काबिज हो रहे हैं लेकिन राजस्व कर्मी उदासीन बने हुए हैं।निगम अधिकारिओं को शायद आखों पर गाँधी जी का चस्मा होने के कारण अवैध रूप से कराये जा रहे ये निर्माण नहीं दिख रहे हैं।कार्रवाई के नाम पर सिर्फ नोटिस थमा दिया जाता है।नोटिस के बाद सुनाई का नियम है।जोकि बाद में बड़ी आसानी से निपट जाता है।

अगर अवैध निर्माण की एक वानगी देखनी है तो सेक्टर 3 पेट्रोल पंप रोड,बई पास रोड सेक्टर 2 ,सोहना रोड सेक्टर 23-सरूरपुर के पास स्थित इंडस्ट्रियल एरिया पर नजर घुमा लीजिये जहाँ अवैध कब्जा व् अवैध तरीके से बनी वर्कशॉप की भरमार हैं।

विशेष रूप से बता दे कि यहाँ अभी भी लगातार अवैध कब्जे व् निर्माण लगातार जारी हैं।बतादें सेक्टर 3 में तो एक अवैध निर्माण को निगम द्धारा 2 बार तोड़ने के बाद भी 15 दिन में ही फिर से निर्माण कर दिया गया।अन्य ताजा उदहारण में सेक्टर 23 के इंडस्ट्रियल एरिया में गोविन्द धर्म काटे वाली रोड पर तो पुरजोर तरिके से अवैध निर्माण व् अवैध कब्जे जारी हैं।

खुल कर न बोलते हुए गोविन्द धर्म कांटा रोड पर स्थित एक कंपनी के सुपरवाइजर ने बताया कि यहाँ शासन की नाक के नीचे इंडस्ट्रियल एरिया में CLU व NOC के बिना ही फैक्ट्री खड़ी हो जाती है और प्रशासन को कानो कान खबर भी नहीं होती।एरिया में कहीं पर भी आपको ग्रीन बेल्ट नहीं दिखेगी।सड़क के दोनों ओर ग्रीन बेल्ट की जगह पर लोगों ने अपना कब्जा किया हुआ है,खुले में जनरेटर रखे हैं जो वायु प्रदूषण फेला रहे हैं।

उदहारण देते हुए पास में ही बन रहे एक शेड को दिखाते हुए सुपरवाइजर ने कहा कि यह शेड तो पूर्ण अवैध रूप से निगम अधिकारिओं के सहयोग से बन रहा है।मौके पर देखने से दिखता भी है कि नियमों को ताक पर रख शेड का निर्माण युद्ध स्तर पर चल रहा है।वहीं सेक्टर 2 के सामने बाई पास चर्च के साथ अवैध निर्माण लगातार जारी हैं।

मालूम हो,नियम के अनुसार क्षेत्र में भवन का निर्माण कराने से पहले ही निगम से अनुमति लेना आवश्यक होता है। नक्शा पास कराने के लिए कॉमर्शियल और आवासीय निर्माण के लिए अलग-अलग शुल्क अदा करना होता है,लेकिन यहाँ कुछ एसा होता देखाई नही दे रहा।

लेकिन जिस तरह से पुराने ईमानदार छवि के निगम कमिशनर के तबादले के बाद शहरवासी निराश व् शहर को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित होने की उम्मीद छोड़ चुके थे वहीं अब नई निगम कमिश्नर के द्धारा पिछले 3 दिनों से अवैध निर्माण पर की गयी करवाई को देख फिर से एक उम्मीद जगी है कि नगरी के अच्छे दिन आएंगे और शायद इस जन्म में तो शहर को स्मार्ट होते देख लेंगे।

 

note:-अगर खबर अच्छी लगे तो कृपया शेयर करें .

LEAVE A REPLY