बरसात में पसीना निकलवाया प्रशासन का विकास फागना के प्रदर्शन ने

0
241

फरीदाबाद :जेईई-नीट परीक्षा 2020 सितंबर महीने में आयोजित होने जा रही है, जिसके विरोध में शुक्रवार को कांग्रेस पार्टी ने देशभर में धरना प्रदर्शन किया।

कोरोना महामारी के चलते पूरे देशभर में कांग्रेस पार्टी व छात्र इकाई,एनएसयूआई द्वारा स्पीक उप फॉर स्टूडेंट हेल्थ केम्पेन के अंतर्गत नीट/जेईई की परीक्षाओ को स्थगित करने,6 महीनों को फीस माफ करने व कोविड के चलते किसी भी प्रकार की परीक्षाए न करवाकर छात्रों को बिना परीक्षाओ के ही प्रोमोट करने की मांग को लेकर आज एनएसयूआई समेत छात्र नेताओ ने एक दिवसीय भूख हड़ताल के माध्यम से छात्र हितों में मांग उठाई ।

फरीदाबाद में भी एनएसयूआई के जिला उपाध्यक्ष विकास फागना ने भी भारी बारिश में अपनी पूरी टीम के साथ पूरे जोश के साथ सरकार के खिलाफ गगन भेदी नारों ने जिला प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें ला दीं।युवाओं के भारी जोश व् भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन को भी सुरक्षा बल का विशेष इंतजाम करना पड़ा।

एनएसयूआई के जिला उपाध्यक्ष विकास फागना ने कहा कि जब इतने रखरखाव व बचाव के बावजूद मुख्यमंत्री मनोहर लाल समेत विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता व अन्य विधायक ,नेता व लोग तक सुरक्षित नही है तो ऐसे में परीक्षा केंद्रों में छात्रों के जीवन की सुरक्षा कैसे सुनिश्चित की जा सकती है। राज्य सरकार को इस ओर सोचना होगा कि यदि इससे संक्रमण फैला तो इसकी जवाबदेही व छात्रों के स्वस्थ्य की जिम्मेदारी किसकी होगी।

विकास फागना ने कहा कि परीक्षा को फिलहाल के लिए स्थगित करना चाहिए क्योंकि नौजवानों के जीवन और स्वास्थ्य का सवाल है। COVID-19 के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, ऐसे में लाखों बच्चों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ करना गलत है,केंद्र सरकार ने जो जिद्द पकड़ी है उसे छोड़ना पड़ेगा।

विकास फागना ने कहा कि एक तरफ जहां पूरा देश कोरोना से जंग लड़ रहा है और दिन प्रतिदिन मामले बढ़ रहे है,ऐसे में संक्रमण का खतरा भी बढ़ गया है जबकि ऐसी स्थिति में परीक्षाए लेना सम्भव नही है क्योंकि पेन पेपर परीक्षाए होना कतई संभव नही है और छात्रों के लिए सुरक्षित भी नही है तो वही आधुनिक सुविधाओं के आभाव व विश्वविद्यालयो में टेक्निकल डिसेबलिटी के कारण ऑनलाइन परीक्षाए भी असंभव है जबकि छात्र भी इसके लिए तैयार नही है।

बता दें कि कोरोना महामारी के कारण दोनों प्रवेश परीक्षाओं को दो बार टाला जा चुका है और अब सितंबर महीने में प्रवेश परीक्षाओं की तारीख तय की गई है जिसे कई राजनीतिक पार्टियां टालने की मांग कर रही हैं।सुप्रीम कोर्ट परीक्षाएं रद्द करने से इंकार कर चुका है, कोर्ट ने कहा था- छात्रों का कीमती साल बर्बाद नही किया जा सकता।

इस विरोध प्रदर्शन में पूर्व विधायक ललित नागर,पूर्व विधायक आनंद कौशिक,कांग्रेसी नेता लखन सिंगला, वरिष्ठ कांग्रेेसी नेता पं.योगेश गौड़,प्रदेश महासचिव बलजीत कौशिक,एडवोकेट सुभाष कौशिक,प्रदेश प्रवक्ता सुमित गौड़,प्रवक्ता योगेश ढींगड़ा,प्रवक्ता जितेंद्र चंदेलिया,पूर्व चेयरमैन डा. एस.एल. शर्मा, राजन ओझा,सत्यवीर डागर,भारत अरोड़ा,मनोज अग्रवाल,प्रदेश कॉर्डिनेटर गौरव ढींगड़ा,एआईपीसी जिलाध्यक्ष डा. सौरभ शर्मा,युवा कांग्रेसी नेता रिंकू चंदीला,बाबूलाल रवि,मोनू ढिल्लो,चुन्नू राजपूत,महिला जिलाध्यक्ष प्रियंका,कांग्रेसी नेता वेदप्रकाश यादव,सुनीता फागना,सोनू चौधरी,अनीशपाल,रंधावा फागना,विकास वर्मा एडवोकेट,अशोक रावल, संजय सोलंकी, इकबाल कुरैशी,विनोद कौशिक,युवा नेता समीर धमीजा,एनएसयूआई छात्र नेता लोकेश चौधरी,मनीषा सिंह,पीयूष सिंह,सौरव देशवाल,अवदेश गुप्ता,गौरव फागना,विशाल,सुधीर राजपूत,सन्नी बादल,लोकेश,दीप राजपूत,मोहित,सुधाकर राजपूत,अरुण,श्याम,राहुल,सोनू,विशाल,निशांत,अतुल,हिमांशु आदि मौजूद थे।

 

LEAVE A REPLY