अमीरों की जेब से लेकर गरीब को दिया,मिडिल क्लास खाली हाथ : लबजट 2019

0
41

आजतक खबरें,फरीदाबाद :वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को लोकसभा में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला पूर्ण बजट पेश किया। बजट में उन्होंने गरीबों को काफी तोहफे दिए। वहीं अमीरों पर टैक्स की दर बढ़ा दी है।इसके अलावा मध्यम वर्ग के लिए टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है। हालांकि मध्यम वर्ग के घर खरीदने के सपने को सरकार पूरा करेगी। घर खरीदने के लिए कर्ज पर मिलने वाली छूट को दो लाख से बढ़ाकर साढ़े तीन लाख कर दिया गया है। पेट्रोल-डीजल के दामों में इजाफा होगा क्योंकि अब इस पर एक-एक रुपये का सेस लगेगा। जानें बजट की अहम बातें.

खास बातें
पेट्रोल-डीजल पर एक रुपये प्रति लीटर सेस, सस्ता और अपना मकान की दिशा में राहत।

पेट्रोल-डीजल पर एक रुपये प्रति लीटर सेस, सस्ता और अपना मकान की दिशा में राहत।

ई वाहन और स्टार्ट अप पर फोकस, आयकर जस के तस।

दो से पांच करोड़ तक की सालाना आय पर अधिभार तीन फीसदी और पांच करोड़ से अधिक की आय पर चार फीसदी अधिभार।

सालाना एक करोड़ से अधिक बैंकिंग लेनदेन पर दो फीसदी टीडीएस।

आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए पैन अनिवार्य नहीं, आधार के जरिए भी दाखिल कर सकते रिटर्न।

सोना और मूल्यवान वस्तुओं पर दस फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी, तंबाकू उत्पाद पर भी शुक्ल वृद्धि।

2020 तक सभी को घर, हर गांव को बिजली, उज्जवला योजना के जरिए गांवों में स्वच्छ ईंधन।

वाहन और स्टार्ट अप पर फोकस, आयकर जस के तस।
दो से पांच करोड़ तक की सालाना आय पर अधिभार तीन फीसदी और पांच करोड़ से अधिक की आय पर चार फीसदी अधिभार।
सालाना एक करोड़ से अधिक बैंकिंग लेनदेन पर दो फीसदी टीडीएस।

आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए पैन अनिवार्य नहीं, आधार के जरिए भी दाखिल कर सकते रिटर्न।

सोना और मूल्यवान वस्तुओं पर दस फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी, तंबाकू उत्पाद पर भी शुक्ल वृद्धि।

2020 तक सभी को घर, हर गांव को बिजली, उज्जवला योजना के जरिए गांवों में स्वच्छ ईंधन।

सोना, तंबाकू, पेट्रोल-डीजल महंगा

बजट में सोने पर लगे शुल्क को 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी कर दिया गया है। तंबाकू पर अतिरिक्त शुल्क लगाया गया है। वहीं पेट्रोल-डीजल पर एक-एक रुपये का अतिरिक्त सेस लगाया गया है। जिससे अब वाहन चालकों को अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी।

जितनी कमाई, उतना टैक्स

मोदी सरकार ने ज्यादा कमाई करने वालों को झटका दिया है। दो करोड़ तक के टैक्स स्लैब में बदलाव नहीं किया है लेकिन सालाना दो से पांच करोड़ रुपये कमाने वालों को तीन फीसदी अतिरिक्त टैक्स देना पड़ेगा। वहीं पांच करोड़ से ज्यादा की कमाई वालों पर सात प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाया गया है। ज्यादा पैसे निकालने पर लगेगा टैक्स
यदि कोई शख्स बैंक से एक साल में एक करोड़ से ज्यादा की राशि निकालता है तो उसे दो फीसदी का टीडीएस देना होगा। मतलब एक करोड़ से ज्यादा की राशि निकालने पर आपके खाते से दो लाख रुपये टैक्स के तौर कट जाएंगे।

आधार के जरिए भी दे सकते हैं टैक्स
मोदी सरकार ने आयकर रिटर्न को लेकर बड़ा एलान किया है। रिटर्न भरने के लिए अब पैन कार्ड जरूरी नहीं है। करदाता आधार कार्ड के जरिए भी टैक्स का भुगतान कर सकते हैं। वित्तमंत्री ने ईमानदार करदाताओं को धन्यवाद दिया।

मध्यम वर्ग को हाउसिंग लोन पर छूट
मोदी सरकार ने मध्यम वर्ग के अपना घर खरीदने के सपने को साकार करने की दिशा में बड़ा एलान किया है। अब 45 लाख रुपये तक का घर खरीदने पर अतिरिक्त डेढ़ लाख रुपये की छूट मिलेगी। यानी घर के लिए यदि आपने कर्ज लिया है तो आपको साढ़े तीन लाख रुपये की छूट मिलेगी जो पहले दो लाख थी। वहीं इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर ढाई लाख की छूट दी जाएगी।

सरकार लाएगी नए सिक्कों की सीरिज
वित्त मंत्री सीतारमण ने घोषणा की कि विनिवेश के जरिए एक लाख करोड़ रुपये जुटाए जाएंगे। एयर इंडिया में भी विनिवेश किया जाएगा। कर्ज देने वाली कंपनियों को अब सीधे रिजर्व बैंक नियंत्रित करेगा। सरकार एक से 20 रुपये के सिक्कों की नई सीरिज जारी करेगी।

कंपनियों को देना होगा 25 फीसदी कॉरपोरेट टैक्स
वित्त मंत्री ने कहा कि 400 करोड़ रुपये तक के टर्नओवर वाली कंपनियों को 25 फीसदी कॉरपोरेट टैक्स देना होगा। देश की 99 फीसदी कंपनियां इसके अंतर्गत आ जाएंगी। ईलेक्ट्रिक वाहनों पर लगने वाली जीएसटी को 12 फीसदी से घटाकर पांच किया जाएगा। स्टार्टअप्स के लिए बड़ी छूट का एलान किया गया है। स्टार्टअप्स को एंजल टैक्स नहीं देना होगा। आयकर विभाग इनकी जांच नहीं करेगा।

एफडीआई को लेकर एलान
वित्त मंत्री ने अपने भाषण में कहा कि मीडिया, एविएशन, एनिमेशन में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की सीमा बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। बीमा क्षेत्र में 100 फीसदी एफडीआई पर भी विचार किया जा रहा है। अतंरिक्ष के क्षेत्र में भारत एक बड़ी ताकत बनकर उभरा है। हमारी सरकार इस ताकत को और बढ़ाना चाहती है। सैटेलाइट लॉन्च करने की क्षमता को बढ़ाया जाएगा।

LEAVE A REPLY