जानिए धोनी के साथ और किस भारतीय खिलाडी ने इंटरनेशनल क्रिकेट को कहा अलविदा

0
397

आजतक खबरें,नई दिल्ली: एमएस धौनी ने अपने फैंस को तगड़ा झटका दिया है।अपनी कप्तानी और ‘फिनिशिंग’ के हुनर से महानतम क्रिकेटरों में शुमार दो बार के विश्व कप विजेता भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहकर पिछले एक साल से उनके भविष्य को लेकर लग रही अटकलों पर विराम लगा दिया ।

गैर पारंपरिक शैली में कप्तानी और मैच को अंजाम तक ले जाने की कला के साथ भारतीय क्रिकेट के इतिहास के कई सुनहरे अध्याय लिखने वाले 39 वर्ष के धोनी के इस फैसले के साथ ही क्रिकेट के एक युग का भी अंत हो गया।

धोनी ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा ,‘‘ अब तक आपके प्यार और सहयोग के लिये धन्यवाद । शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिये ।’’

15 अगस्त यानी कि देश के स्वतंत्रता दिवस के खास मौके पर उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा है। एक साल से ज्यादा समय से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहने वाले एमएस धोनी को लेकर काफी समय से चर्चाएं थीं कि वे संन्यास लेने वाले हैं, क्योंकि वे क्रिकेट की दुनिया में एक्टिव नहीं थे।

एमएस धौनी भारत के ही नहीं, बल्कि दुनिया के सबसे सफल कप्तानों में गिने जाते हैं, क्योंकि वे एकमात्र ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आइसीसी की सारी ट्रॉफियां जीती हैं। टी20 वर्ल्ड कप हो या वनडे वर्ल्ड कप या फिर आइसीसी चैंपियंस ट्रॉफी धौनी ने सारे खिताब देश को दिलाए हैं। धौनी ने 2007 में बतौर कप्तान टी20 वर्ल्ड कप जीता था, जबकि 2011 में वनडे विश्व कप विजेता धौनी थे। इसके अलावा 2013 की आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी भी धौनी ने देश को जिताई थी।

39 साल के एम एस धौनी ने भारत के लिए आखिरी मैच 2019 वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था जो सेमीफाइनल मुकाबला था। इस मैच में भारत को हार मिली थी और इसके बाद से ही धौनी के क्रिकेट करियर को लेकर काफी कयास लगाए जा रहे थे।

15 अगस्त 2020 का दिन यादगार बन गया क्योंकि इस दिन भारत के सबसे सफल कप्तान ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया।धौनी ने भारत के लिए 90 टेस्ट मैच खेले जिसमें उन्होंने 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए और उनका बेस्ट स्कोर 224 रन था। वहीं विकेटकीपर के तौर पर उन्होंने टेस्ट में विकेट से पीछे 256 कैच और 38 स्टंप किए। वनडे कि बात करें तो उन्होंने 350 मैचों में 50.57 की औसत से 10,773 रन बनाए थे और बेस्ट स्कोर नाबाद 183 रन था।

वनडे में उन्होंने 321 कैच और 123 स्टंपिंग किए। टेस्ट में उन्होंने 6 शतक लगाए थे जबकि वनडे में उन्होंने 10 शतक लगाए थे। टी20 की बात करें तो उन्होंने 98 मैचों में 1617 रन बनाए थे। टी20 में उनका बेस्ट स्कोर 56 रन रहा जबकि विकेट के पीछे उन्होंने क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में 57 कैच और 34 स्टंप किए।

भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी बल्लेबाज सुरेश रैना ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया है।इंडियन प्रीमियर लीग शुरू होने से पहले चेन्नई सुपर किंग्स के दो धुरंधरों ने संन्यास की घोषणा कर सबको चौंकाया है।

एम एस धौनी के साथ लंबे समय तक खेलने वाले सुरेश रैना ने अपने पूर्व कप्तान के साथ ही इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने का फैसला लिया।

LEAVE A REPLY