मुख्यमंत्री राज्यपाल से मुलाकात करने राजभवन पहुँचे,विधानसभा भंग होने की अटकलें तेज

0
262

आजतक खबरें,चंडीगढ़: मुख्यमंत्री मनोहर लाल और बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला की पार्टी के प्रभारी अनिल जैन और चुनाव इंचार्ज कलराज मिश्र के साथ आज हुई ताजा मुलाकात के बाद विधान सभा भंग होने की चर्चाएं तेज हो गई हैं।

गुप्तचर एजेंसियों की रिपोर्ट से बीजेपी नेतृत्व गदगद हैं।रिपोर्ट में लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा चुनाव कराने पर बीजेपी को बड़ा फायदा मिलने की उम्मीद पर सीएम ने कल आठ मार्च को चंडीगढ़ में एक बार फिर कैबिनेट की मीटिंग बुलाई है।दो दिन के भीतर दोबारा मीटिंग बुलाने से राजनैतिक गलियारों में हड़कंप मचा हुआ है।अगली मीटिंग में सरकार विधानसभा को भंग करने का फैसला ले सकती है।

हालांकि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बार बार इस संभावना को खारिज करते रहे हैं कि हरियाणा विधानसभा के चुनाव अपने निर्धारित समय से छ: माह पहले लोक सभा के आम चुनावों के साथ हो सकते हैं।लेकिन पिछले दो दिन से राजनीतिक गलियारों में चल रही हलचल से संकेत मिल रहे हैं कि हरियाणा बीजेपी अगले कुछ दिनों में राज्य विधान सभा को भंग कर लोक सभा चुनाव के साथ ही विधान सभा चुनाव का भी डंका बजवा सकती है।

सूत्रों के मुताबिक इस समय राजनैतिक माहौल इस समय पूरी तरह बीजेपी के पक्ष में है और जन भावनाएं बीजेपी के साथ हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि राज्य में विपक्ष खासकर कांग्रेस इस समय कई खेमों में बंटा हुआ है।कोई भी विपक्षी दल फिलहाल अकेले अकेले बीजेपी को चुनौती देने की हालत में नहीं है। गर आलाकमान से हरी झंडी मिल गई तो शुक्रवार को कैबिनेट की मीटिंग में हरियाणा विधानसभा को भंग करने के प्रस्ताव पर मुहर लग सकती है।

मीटिंग के बाद कैबीनेट का प्रस्ताव लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर प्रदेश के राज्यपाल सत्यदेव सिंह आर्य से मुलाकात करने राजभवन पहुंच गए है जहाँ मुख्यमंत्री राज्यपाल से विधान सभा को भंग करने की सिफारिश कर सकते हैं।

वहीं दूसरी ऒर राज्य में लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव कराने का परिदृश्य बुधवार तब खारिज हो गया जब सरकार ने चार नए चेयरमैन की नियुक्ति की।

राजनीति के जानकार मानते हैं कि यदि भाजपा को लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव कराने होते तो चार नए चेयरमैन की नियुक्ति नहीं की जाती।क्योंकि विधानसभा चुनाव में जाने के साथ ये नियुक्तियां रद मानी जाती हैं।

LEAVE A REPLY