RTI एक्टिविस्ट वरुण श्योकंद की आवाज पहुंची चंडीगढ़

0
339

आजतक खबरें,चंडीगढ़:दो दिन पहले फरीदाबाद शहर के एक कोने से RTI एक्टिविस्टों द्धारा की गयी छोटी सी आवाज की गूंज इतनी जल्दी पंचकूला तक पंहुचेगी इसकी उम्मीद कम ही थी लेकिन हरियाणा में बिजली की घटिया क्वालिटी की केबल डालने के मामले में ठेकेदार और विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत पर सरकार ने सख्ती की है।

बिजली निगमों के चेयरमैन शत्रुजीत कपूर ने 10 ठेकेदारों को नोटिस देते हुए उनकी 38 करोड़ रुपये की पेमेंट रोक दी है।साथ ही बिजली विभाग के सात कार्यकारी अभियंताओं (एक्सईएन) को चार्जशीट कर दिया गया है।

बिजली निगमों के चेयरमैन को शिकायत मिली थी कि ठेकेदार घटिया क्वालिटी की केबल डाल रहे हैैं।उत्तर हरियाणा में अभी केबल डालने का काम पूरा नहीं हुआ है,जबकि दक्षिण हरियाणा के हिसार, नारनौल, सिरसा और पलवल जिलों में केबल डाल दी गई है।

प्रदेशभर में बिजली चोरी रोकने और कुंडी कनेक्शन बंद करने के लिए बिजली की तारें बदली जा रही हैैं। यह काम अलग-अलग ठेकेदारों को दिया गया है। पहले चरण में दक्षिण हरियाणा में 10 और उत्तर हरियाणा में पांच ठेकेदारों को करीब 80 करोड़ रुपये के ठेके पहले चरण में अलॉट किए गए हैैं।

बतादें शत्रुजीत कपूर ने बिजली विभाग के अधिकारियों को केबल की जांच के आदेश दिए।कुछ अधिकारियों ने ठेकेदारों से मिलीभगत कर गलत रिपोर्ट दी।इसके बाद चेयरमैन ने मुख्यालय से टीमें भेजकर दक्षिण व उत्तर हरियाणा में केबल के 140 सैंपल लिए।

उत्तर हरियाणा के ठेकेदारों को नोटिस दिए गए तो उन्होंने अच्छी क्वालिटी की केबल लगानी शुरू कर दी।चूंकि दक्षिण हरियाणा में केबल डल चुकी थी,इसलिए 10 ठेकेदारों को पेमेंट रोकते हुए अच्छी क्वालिटी की केबल डालने के निर्देश भी दिए हैं।

बिजली निगमों के पास इन ठेकेदारों की धरोहर राशि और बैैंक गारंटी पहले से जमा है।ऐसे में यदि ठेकेदारों द्वारा घटिया की जगह अच्छी क्वालिटी की केबल नहीं बिछाई जाती तो उक्त राशि से रिकवरी की जाएगी।

अब देखने वाली बात यह होगी कि सुशासन,भ्रष्टाचार मुक्त हरियाणा व् जीरो टॉलरेंस का नारा देने वाली भाजपा सरकार क्या ठेकेदारों के उपर ही सारी कार्यवाही कर मामले को मिटटी में दफ़न कर देगी या पर्दे के पीछे के सफेदपोस या सरकारी बाबुओं को भी सामने लाएगी।साथ ही फरीदाबाद और गुरूग्राम में बिछाई जा रही है केबल की जाँच करवाई जाएगी।

बता दे दिन पहले ही आरटीआई कार्यकर्ता वरूण श्योकंद ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर बिजली निगम अधिकारियों पर प्रदेश के सात जिलों में 500 करोड़ रुपये का केबल घोटाले का आरोप लगाया है।यह केबल मेरा गांव जगमग गांव, आईपीडीएस, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम योजनाके अंतर्गत लगाई गई थी।अभी तक फरीदाबाद,गुड़गांव की केबल का निरीक्षण नहीं हुआ है क्योंकि यहां के कुछ अफसरों की पहुंच ऊपर तक मानी जाती है और उन्होंने इसे रोका हुआ है।

LEAVE A REPLY