RTI एक्टिविस्टों ने खोजा बिजली विभाग की खराब तारों में 500 करोड़ का घोटाला

0
358

आजतक खबरें,फरीदाबाद :भाजपा सरकार में बिजली मंत्रालय मुख्यमंत्री के पास होते हुए व शत्रु जीत कपूर की देखरेख में उनकी नाक के नीचे 500 करोड़ से अधिक का घोटाला हो गया।आरटीआई कार्यकर्ता वरूण श्योकंद ने बिजली निगम अधिकारियों पर प्रदेश के सात जिलों में 500 करोड़ रुपये का केबल घोटाले का आरोप लगाया है।

 वरूण श्योकंद का कहना है यह बात पिछले दिनों निगम के निदेशक एसके बंसल की ओर से करवाई गयी केबल जांच में सामने आई है।यही केबल फरीदाबाद और गुरूग्राम में बिछाई जा रही है,लेकिन इसकी कोई जांच नहीं करवाई जा रही।

बतादें,दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के 7 जिलों में से 5 जिलों में लगाई गई सारी केबल इंस्पेक्शन मे फेल हो गई व गुणवत्ता के आधार पर ठीक नहीं पाई गई।यह केबल मेरा गांव जगमग गांव, आईपीडीएस, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम योजना के अंतर्गत लगाई गई थी।अभी तक फरीदाबाद, गुड़गांव की केबल का निरीक्षण नहीं हुआ है क्योंकि यहां के कुछ अफसरों की पहुंच ऊपर तक मानी जाती है और उन्होंने इसे रोका हुआ है।

सेक्टर-12 स्थित एक निजी होटल में आयोजित प्रेसवार्ता में आरटीआई कार्यकर्ता ने कहा कि बिजली विभाग की ओर से म्हारा गांव जगमग गांव, आईपीडीएस, दीनदयाल उपाध्याय योजनाओं के तहत पलवल,हिसार सिरसा रेवाड़ी, भिवाड़ी,जींद, फतेहाबाद, फरीदाबाद और गुरूग्राम के ग्रामीण इलाकों में बिजली की ब्लैक केबल का जाल बिछाया जा रहा है।

 वरूण श्योकंद ने बताया कि कुछ माह पूर्व उन्हें जानकारी मिली की गांव में बिछाई जा रही बिजली की केवल नकली है।इसकी शिकायत बिजली निगम निदेशक एसके बंसल से की और मामले की जांच की मांग भी की।उन्होंने विभाग से 7 जिलों की केबल की जांच करवाई,मगर फरीदाबाद और गुरूग्राम के अधिकारियों की उच्च अधिकारियों के साथ मिलीभगत होने के कारण यहां जांच रुकवा दी गई।

मालूम हो,प्रदेश के सात जिलों में की गई केबल की जांच रिपोर्ट में केबल गुणवत्ता में फेल पाई गई। इसकी एवज में बिजली विभाग की ओर से ठेकेदार को भुगतान भी कर दिया गया।

साथ ही वरूण श्योकंद ने बताया कि बिजली विभाग अधिकारियों की मिली भगत का एक मामला दो दिन पहले भी सामने आया है।उन्होंने विभाग के जेई प्रेम सिंह और एसडीओ जवाहर पर आरोप लगाया कि दोनों अधिकारियों की मिली भगत से सेक्टर 76 की एक सोसायटी को चोरी से बिजली दी जा रही है।

सोसायटी के बाहर 100 केवी का ट्रांसफार्मर लगाकर फ्लेट धारकों से सरेआम वसूली की जा रही है।इसकी शिकायत स्टेट विजिलेंस से की गई,मगर छापेमारी से पहले विजिलेंस टीम ने जेई को इसकी सूचना दे दी।इससे मौके पर सब कुछ सही मिला।

प्रेसवार्ता में मौजूद बाबा रामकेवल और डॉ. ब्रह्मदत्त ने कहा कि एक तरफ भाजपा सरकार भ्रष्टाचार मुक्त शासन की बात करती है,वहीं बिजली विभाग स्वंय सीएम मनोहर लाल के पास है और उसमें ही घोटाला हो रहा है।

डॉ. ब्रह्मदत्त ने कहा कि यही मामला उत्तरी हरियाणा बिजली वितरण निगम का भी है पर वहां अभी तक केबल चेक नहीं करवाई गई इन्हीं कंपनियों ने वहां भी केबल सप्लाई की है ना ही इन कंपनियों को ब्लैक लिस्ट किया जा रहा है,अलबत्ता अभी भी इन्हीं कंपनियों से केबल की खरीद-फरोख्त जारी है अगर 1 सप्ताह के अंदर इन्होंने कोई एक्शन नहीं लिया तो हम चंडीगढ़ जाकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे इस बारे में और राज्य स्तर पर मुहिम चलाएंगे।

LEAVE A REPLY