सोनाली बेंद्रे को हुआ है ये कैंसर

0
151

आजतक खबरें,दिल्ली:कुछ दिन पहले ‘इंडियाज़ बेस्ट ड्रामेबाज़’ के रिएलटी शो में जब सोनाली बेंद्रे दिखना बंद हो गई थीं,तो किसी ने नहीं सोचा था कि ये सब उनकी बीमारी की वजह से है.

अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे कैंसर की बीमारी से जूझ रही हैं.सोनाली बेंद्रे ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इस बारे में जानकारी दी है.सोनाली ने लिखा,”हाल ही में जांच के बाद मुझे ये पता चला है कि मुझे हाईग्रेड मेटास्टेटिस कैंसर है. इसकी उम्मीद मुझे कभी नहीं थी.लगातार होने वाले दर्द के बाद मैंने अपनी जांच करवाई जिसके बाद चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई.”

सोनाली लिखती हैं, ”इस घड़ी में मेरा परिवार और मेरे दोस्त मेरे साथ हैं और हर संभव तरीके से मेरा साथ दे रहे हैं. मैं उन सबकी शुक्रगुज़ार हूं और ख़ुद को सौभाग्यशाली महसूस कर रही हूं.”

दिल्ली के अपोलो अस्पताल में ऑन्कोलॉजी विभाग की हेड डॉक्टर सपना नांगिया के मुताबिक, “सोनाली बेंद्रे ने अपने कैंसर के बारे में जितनी बातें इंस्टाग्राम पर शेयर की हैं, उससे बिल्कुल सटीक ये पता नहीं लगाया जा सकता है कि उनका कैंसर कितना ख़तरनाक है.”

डॉक्टर सपना नांगिया आगे कहती हैं, “किसी भी कैंसर का पता लगाने के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि पता चले प्राइमरी ट्यूमर कहां था.सोनाली बेंद्रे के कैंसर के बारे में अभी ये पता नहीं है.”

आख़िर मेटास्टेटिस कैंसर क्या होता है?इस सवाल के जवाब में वो कहती हैं ”हर मेटास्टेटिस कैंसर जानलेवा नहीं होता.कई बार इस तरह के कैंसर का इलाज संभव भी होता है.”

मेटास्टेटिस कैंसर का मतलब ये है कि एक जगह कैंसर के सेल मौजूद नहीं हैं. जहां से कैंसर की उत्पत्ति हुई है, उससे शरीर के दूसरे अंग में वो फैल चुका होता है.

उनके मुताबिक, “कई बार केवल ये पता चलना कि कैंसर में प्राइमरी ट्यूमर कहां है ये भी काफ़ी नहीं होता. मसलन, अगर ब्रेस्ट कैंसर मेटास्टेटिसाइज़ हो गया है तो ये पता लगना भी काफ़ी नहीं होता. ब्रेस्ट कैंसर के कई प्रकार होते हैं जिनका मेटास्टेटिसाइज़ होना जानलेवा हो सकता है और कई बार जानलेवा नहीं भी हो सकता है.”

हर कैंसर में मेटास्टेटिस का मतलब स्टेज 4 होता है. लेकिन हर कैंसर में स्टेज 4 जानलेवा ही हो, ये ज़रूरी नहीं है.

मुंबई के टाटा मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल के डॉक्टर आशुतोष टोंडरे के मुताबिक, “मेटास्टेटिस कैंसर से ये मतलब कतई न निकालें कि कैंसर किस स्टेज में हैं. इसका मतलब ये है कि कैंसर के सेल किस स्टेज में हैं. इससे ये पता लगता है कि कैंसर के सेल शरीर के दूसरे हिस्से में फैल रहे हैं.”

पर सोनाली बेंद्रे का कैंसर हाईग्रेड मेटास्टेटिस कैंसर हैं. इसलिए ये जानना भी ज़रूरी है कि हाईग्रेड क्या होता है.

डॉक्टर सोनाली कहती हैं कि हाईग्रेड के दो मतलब होते हैं. एक तो ये कि प्राइमरी ओरिजन बदल गया है और दूसरा ट्यूमर का टाइप, मसलन ट्यूमर ज़्यादा तेज़ी से बढ़ रहा है.

LEAVE A REPLY