रामेश्वरम को रामसेतु से जोड़ने वाला पुल अगले माह से बनेगा

0
35

आजतक खबरें,नई दिल्ली:रेलवे रामेश्वरम और रामसेतु जाने वाले देश के करोड़ों रामभक्तों की सुविधा के लिए नया पंबन ब्रिज बनाने का काम अगले माह से शुरू करने जा रही है।

रेलवे मंत्रालय ने चुनौतीपूर्ण पंबन ब्रिज योजना का काम रेलवे विकास निगम सार्वजनिक उपक्रम को सौंपा है। आरवीएनएल समुद्र पर रेल पुल बनाने में नई तकनीक का इस्तेमाल करेगा।

योजना के मुताबिक तमिनाडु के मंडपम से पंबन (द्वीप) के बीच 2050 मीटर लंबा नया पुल बनाया जाएगा।इस पुल को आगामी 24 माह में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। 2050 मीटर लंबे ब्रिज के निर्माण पर लगभग 248.97 करोड़ रुपये की लागत आएगी। रेलवे का समुद्र में एकलौता पंबन ब्रिज 105 साल पुराना हो गया है।इसके सामानंतर नया पंबन ब्रिज बनाया जा रहा है।ल को आगामी 24 माह में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। 2050 मीटर लंबे ब्रिज के निर्माण पर लगभग 248.97 करोड़ रुपये की लागत आएगी। रेलवे का समुद्र में एकलौता पंबन ब्रिज 105 साल पुराना हो गया है।इसके सामानंतर नया पंबन ब्रिज बनाया जा रहा है।

रेलवे मंत्रालय ने चुनौतीपूर्ण पंबन ब्रिज योजना का काम रेलवे विकास निगम सार्वजनिक उपक्रम को सौंपा है। आरवीएनएल समुद्र पर रेल पुल बनाने में नई तकनीक का इस्तेमाल करेगा।

नए पंबन ब्रिज में समुद्र में पानी के बड़े जहाज, स्टीमर, नौकाएं आदि के जाने के लिए पहली बार वर्टिकल लिफ्ट (यूरोपीय तकनीक) की तर्ज पर सेतु का 63 मीटर लंबा हिस्सा रेल लाइन सहित ऊपर उठाने का इंतजाम होगा। रेल लाइन के दोनों छोर और उठने वाले हिस्से पर कंट्रोल के लिए टावर बनाए जाएंगे। इस तकनीक के सेतु भारतीय रेल में कहीं नहीं है।

पुल पर रेलवे लाइन में इस्तेमाल होने वाले स्लीपर कंपोजिट (कई प्रकार की सामग्री से निर्मित) होंगे इससे समुद्र के खरे पानी व हवा से करोजन (क्षरण) से बचाव होगा।

नया पुल पुराने पुराने पंबन ब्रिज से तीन मीटर अधिक ऊंचा बनाया जाएगा। इससे समंदर में ज्वार-भाटा आने पर भी ट्रेनों को निर्बाध चलाया जा सकेगा।

 

LEAVE A REPLY